Kamalpreet Kaur: भारतीय डिस्कस थ्रोअर कमलप्रीत पर लगा तीन साल का बैन, डोपिंग टेस्ट में फेल

Kamalpreet Kaur: Indian discus thrower Kamalpreet banned for three years, failed doping test Kamalpreet Kaur: भारतीय डिस्कस थ्रोअर कमलप्रीत पर लगा तीन साल का बैन, डोपिंग टेस्ट में फेल

Kamalpreet Kaur Banned for 3 Years: टोक्यो ओलंपिक में अपने प्रदर्शन से प्रभावित करने वालीं भारत की शीर्ष चक्का फेंक एथलीट कमलप्रीत कौर को बड़ी सजा मिली है। यह सजा उन्हें स्टेरॉयड लेने के लिए मिली है। कमलप्रीत कौर पर तीन साल का बैन लगाया गया है। उन्होंने प्रतिबंधित पदार्थ स्टेनोजोलोल का सेवन किया था। उनका प्रतिबंध 29 मार्च 2022 से प्रभावी होगा। एथलेटिक्स इंटीग्रिटी इकाई (एआईयू) ने यह घोषणा की है।

करीब सात महीने लिए थे नमूने

एआईयू ने करीब सात महीने पहले कमलप्रीत के नमूने लिए थे। उन पर पहले निलंबन भी लगा था लेकिन अब दोषी पाए जाने के कारण वह तीन साल के लिए किसी इवेंट में हिस्सा नहीं ले पाएंगी। गत सात मार्च को पटियाला में उनका जो नमूना जांच के लिए लिया था उसे परीक्षण में स्टेरॉयड के लिए पॉजिटिव पाया गया।

इस साल मई में उन्होंने अस्थाई रूप से निलंबित किया गया था। बुधवार को प्रतिबंधित पदार्थ स्टेनोजोलोल के इस्तेमाल के लिए तीन साल का प्रतिबंध लगाया गया। एथलेटिक्स इंटीग्रिटी इकाई (एआईयू) ने यह घोषणा की।

ओलंपिक में किया था प्रभावित

कमलप्रीत ने टोक्यो में खेले गए पिछले ओलंपिक गेम्स में अपने प्रदर्शन से प्रभावित किया था। वह महिला चक्का फेंक स्पर्धा में शानदार प्रदर्शन करते हुए छठे स्थान पर रही थीं। एआईयू ने बयान में कहा, 'एआईयू ने भारत की कमलप्रीत कौर को प्रतिबंधित पदार्थ (स्टेनोजोलोल) की मौजूदगी/इस्तेमाल करने पर 29 मार्च 2022 से तीन साल के लिए प्रतिबंधित किया है। उनके नतीजे सात मार्च 2022 से अमान्य होंगे।'

ओलंपिक से पहले बनाया था रिकॉर्ड

कमलप्रीत ने पिछले साल टोक्यो खेलों से पहले 65।06 मीटर का राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाया था। उन्होंने तोक्यो खेलों के दौरान क्वालीफाइंग दौर में दूसरे स्थान पर रहते हुए फाइनल में जगह बनाई थी जहां वह 63।70 मीटर के सर्वश्रेष्ठ प्रयास के साथ सातवें स्थान पर रही थीं। यह खेलों में किसी भारतीय खिलाड़ी का फील्ड स्पर्धाओं में तीसरा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन था

Show Full Article
Next Story
Share it