IPL 2022: श्रीलंका सरकार के खिलाफ 2 दिग्गजों ने खोला मोर्चा, विरोध में उठाया बड़ा कदम

Sri lanka economic crisis: श्रीलंका में पैदा हुए आर्थिक संकट से देश की क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान कुमार संगकारा काफी नाराज हैं और उन्होंने नेशनल स्पोर्ट्स काउंसिल से इस्तीफा दे दिया है. 


नई दिल्ली. श्रीलंका इस वक्त सबसे बड़े आर्थिक संकट से जूझ रहा है. वहां की अर्थव्यवस्था चरमरा गई है. रोजमर्रा की चीजों की भारी किल्लत हो गई है. लोग सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतर गए हैं. श्रीलंकाई क्रिकेट टीम के दो पूर्व कप्तान महेला जयवर्धने और कुमार संगकारा देश की इस हालात से नाराज हैं. खासतौर पर सरकार ने जिस तरह से इस आर्थिक संकट पर एक्शन लिया है, उससे यह दोनों गुस्से में हैं. इन दोनों ने श्रीलंका सरकार के विरोध में नेशनल स्पोर्ट्स काउंसिल के साथ क्रिकेट एडवाइजरी कमेटी से भी इस्तीफा दे दिया है. इसके साथ ही यह कमेटी भी भंग हो गई. संगकारा और जयावर्धने के अलावा अरविंद डिसिल्वा भी सीएसी में शामिल थे.

बता दें कि नेशनल स्पोर्ट्स काउंसिल देश की खेल नीति के बारे में सरकार को सलाह देती है. खेल मंत्री नमल राजपक्षे ने अगस्त 2020 में स्पोर्ट्स काउंसिल का गठन किया था. संगकारा और जयवर्धने के इस्तीफे के बाद बाकी सदस्यों ने भी पद छोड़ दिया है. फिलहाल, जयवर्धने नेशनल स्पोर्ट्स काउंसिल के मुखिया थे. मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो जयवर्धने ने हाल ही में हुई एक वर्चुअल मीटिंग में अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. स्पोर्ट्स डायरेक्टर जनरल अमल एदिरिसूरिया ने भी इसकी पुष्टि की है. जयवर्धने और संगकारा फिलहाल, आईपीएल 2022 में कोच की भूमिका निभा रहे हैं. जयवर्धने पांच बार की चैम्पियन मुंबई इंडियंस के कोच हैं. जबकि कुमार संगकारा राजस्थान रॉयल्स के डायरेक्टर ऑफ स्पोर्ट्स हैं.

संगकारा- जयवर्धने ने सरकार की आलोचना की थी

इससे पहले, संगकारा और जयवर्धने ने संकट से निपटने में नाकाम रहने के लिए सरकार की कड़ी आलोचना की थी. दरअसल, सरकार ने सड़कों पर उतरे प्रदर्शनकारियों को हिरासत में ले लिया था. वहीं, देश में आपातकाल लागू कर दिया था. इसके अलावा सोशल मीडिया पर भी बैन लगा दिया था.

सरकार को समाधान देना चाहिए: संगकारा

इससे पहले, महेला जयवर्धने और कुमार संगकारा ने सोशल मीडिया पर सरकार के खिलाफ गुस्सा जाहिर किया था. जयवर्धने ने सोशल मीडिया पर पोस्ट लिखा था कि सरकार आम लोगों की जरूरतों को नजरअंदाज नहीं कर सकती., सरकार का विरोध करने पर लोगों को गिरफ्तार करना बर्दाश्त नहीं किया जा सकता. सच्‍चे नेता अपनी गलतियां स्वीकार करते हैं. वहीं, संगकारा ने भी कहा था कि श्रीलंका सबसे मुश्किल वक्त का सामना कर रहा है. लोगों की परेशानी देखकर मेरा दिल टूट गया है. लोग अपनी जरूरत की चीजें मांग रहे हैं. वो दुश्मन नहीं हैं. श्रीलंका में आपातकाल का असर क्रिकेट पर भी पड़ा है. आर्थिक संकट की वजह से इस वक्त श्रीलंका में आईपीएल 2022 का प्रसारण नहीं हो पा रहा है.

Show Full Article
Next Story
Share it